Discovery of holy happiness

सुप्रभात मित्रो, कैसे है आप सब। उम्मीद है आप सभी अच्छे होंगे। आज हम बात कर रहे है खुशी की, आइये देखते है। खुशी दो तरह की होती है एक वो जो दुनिया आपके अन्दर महसूस करती है, दूसरी वो खुशी जो आप अपने अंदर महसूस करते है। हमारे पास खुश रहने की कई वजह होती है लेकिन हम हमेशा परेशानी के कारण खोजते रहते है। अगर कोई स्टूडेंट है तो वो परेशान रहता है कि किसी तरह ग्रेजुएशन पास कर जाए। बेरोजगार परेशान रहता है कि अच्छी नौकरी मिल जाए। जिसको नौकरी मिल गई वो ऑफिस पॉलिटिक्स से परेशान रहता है। गरीब अमीर होने के लिए परेशान रहता है और अमीर दूसरे अमीरो से फाइट करने को लेकर परेशान है। मतलब ये कि आप किसी भी पैमाने पर पहुँच जाए पर आप खुश नही होगी भले ही पूरा जीवन लगा दें। आखिर हम परेशान रहने के लिए तो पैदा नही हुए है ना। हमको अपने आसपास फैली खुशी को देखना है। हम ये नही देखते कि आज हमारे पास क्या है कई लोग स्वस्थ है लेकिन वो इसको खुशी नही समझते है। वही जो दिव्यांग है वो बस यही मांगते है कि काश वो शारीरिक स्वास्थ्य होते क्योंकि उनको स्वस्थ की असली कीमत जानते है। हममे से बहुत लोग है जो माँ बाप के साथ रहते है और उनसे खुश नही है उनमे कमियाँ निकलते रहते है पर ये नही सोचते कि हर व्यक्ति के अंदर कई अच्छाइयां है। एक ह्यूमन टेंडेंसी होती है कि हम दूसरों की कमियाँ पहले देखते है। अपने आसपास हो रही घटनाओं के बारे में जब आप सोच समझकर प्रतिक्रिया देंगे तो आपको लगेगा कि आप 90% घटनाओ में बेकार में ही परेशान और दुखी होते थे। खुश रहना एक टॉनिक है जो हर परेशानी को कम कर देता है। ये कोई रॉकेट साइंस नही है बस एक माइंड सेट की बात है कुछ लोग कहते है कि जिनके परिवार वाले उनके साथ देते है या काफी हद तक सभी का स्वभाव एक जैसा ही होता है वो खुश रहते है। लेकिन दोस्त एक 2 साल के बच्चे को कहाँ माँ बाप का पता होता है उसको एक खिलौना दिया और वो उसी में खुश हो जाता है। अगर आप मानते है कि आपको कोई खुश रहने से नही रोक सकता तो आप जीवन के हर पल में खुश ही रहेंगे।


   वैज्ञानिक दृष्टिकोण से खुशी 3 तरह की होती है पहली Surprising Pleasure। ये वो खुशी होती है जो हमे अचानक मिलती है और इस खुशी में मेन्टल हैप्पीनेस काफी ज्यादा होती है। जैसे अगर कोई आपको आपकी ड्रीम कार गिफ्ट करता है या अगर आपको एग्जाम में कम मार्क्स आने की उम्मीद है और आप इसके उलटे आप टॉप कर जाते हो तो जो खुशी मिलती है उसकी कल्पना नही की जा सकती है। दूसरी है Flow Happiness। ये वो खुशी है जो हमारी आदत में शामिल हो चुकी है जैसे हमे अपने किसी फ्रैंड से बात करने में अच्छा लगता है या कुछ लोगों को घूमने में मज़ा आता है। तो कुुुछ लोग कुकिंग में भी इंटरेस्टेड होते है। कुल मिलाकर ये हमारी हॉबिज़ होती है और इनको हम रेगुलरली करने में सेटिस्फेक्शन महसूस करते है। ये खुुुश रहने सबसे महत्वपूर्ण तरीका है क्योंकि हम इस खुशी को रोज महसूस कर सकते है और इसके लिए कोई बहुत मेहनत नही करनी होती है।


तीसरी खुशी है Meaningful Happiness। ये खुशी एक निश्चित उद्देश्य प्राप्ति के बाद आती है जैसे अगर किसी को डॉक्टर बनाने का लक्ष्य है तो उसको हर उस चीज़ में खुशी मिलेगी जो उसको लक्ष्य तक ले जाने में मददगार हो। किसी को रिसर्च करने में मन लगता है तो वो उसको ही करेगा चाहे दुनिया उच्च भी कहे उसको वही से खुशी मिलेगी। जब युद्ध होते है तक कई बार ये देखा जाता है प्रौढ़ की अपेक्षाकृत यूथ ज्यादा मरते है कारण ये होता है कि उनके पीछे कोई ज्यादा जीने की वजह नही होती जबकि शादीशुदा लोगो को अपने बेटे बेटियो को सफल बनते हुए देखने की खुशी छिपी होती है। इसलिए सिंगल पर्सन सुसाइस भी ज्यादा करते है। खुश रहने के लिए आपको एक दवा जुरूर लेनी चाहिए और वो ये है कि रोज सुबह उठकर सबसे पहले अपनी डायरी में किसी पिछली अच्छी यादें या कोई खुशी देने वाली बात जरूर लिखे चाहे 2-4 लाइन ही लिखना पड़े इसके लिए डायरी रात को ही अपने साथ रख लें।
Powered by Blogger.