Self Esteem (स्वाभिमान)

वह व्यक्ति जिसे अपनी प्रतिष्ठा पर गौरव हो या अपनी योग्यता का ज्ञान हो, जो अपनी इज्जत का ख्याल रखता हो, वह स्वाभिमानी होता है। जो वृक्ष हवा के झोकों से झुक कर अपने स्वाभिमान का परिचय देतें हैं वो गिरने से बच जाते हैं। और जो वृक्ष तेज हवाओं के झोकों में सीधे खड़े रहकर अपने अभिमान का परिचय देतें हैं वो टूटकर भूमि पर गिर जाते है। स्वाभिमानी व्यक्ति अपनी आंतरिक क्षमताओ को समझकर अपने को दूसरों से कमजोर या महान नही मानता है और मान की आशा नही रखता है परंतु अपमान न हो इसके लिए प्रयासरत रहता है। कुछ लोग समाज के मुखिया होते है या घर मे बड़े होते है और चाहते है कि सभी उनका सम्मान करें लेकिन जब ऐसा नही होता तो कहते है कि उनके स्वाभिमान को ठेस पहुचाया जा रहा है। मित्रो, स्वाभिमान को कभी ठेस नही पहुचता है, जिसको ठेस पहुच रहा है वो अभिमान है। व्यापारिक या सामाजिक जीवन मे कई बार लोग दूसरों को नीचा दिखाने का प्रयास करते है और हम सोचने लगते है कि कही न कही हम ही एक माध्यम योग्यता के व्यक्ति है और शायद लोग सही कह रहे हैं। लेकिन मेरे दोस्त लोग आपको आपकी कमियाँ ही बताएगे कोई आपको आपकी क्षमता, आपकी ताकत नही बताएगा। आप अपार योग्यता के स्रोत हो, बस पहचानने की जरूरत है। और हाँ, मैं एक और बात बताना चाहूंगा आप सब कुछ नही जान सकते, सब कुछ नही कर सकते। आपके दिमाग की भी एक क्षमता है। आप यूनिक है सभी के समान योग्य है लेकिन सब कुछ आप ही नही कर सकते क्योंकि आप ईश्वर नही है इसलिए एक दिशा में अपनी योग्यता, क्षमता और शक्ति को केंद्रित करें।
माना परिभाषाएं स्वाभिमान की, बस शब्दों में सीमित हैं।
मूल्य संज्ञान अब स्वाभिमान का बस किस्सों में संचित है।।
स्वाभिमान को तुम अपने, कभी अहंकार न बनने देना।
सम्मानों के उच्च मंच पर, स्वाभिमान को झुकने न देना।। 





          अभी मैं आपको 6 पॉइंट शेयर कर रहा है जिससे आप अपना सेल्फ एस्टीम बढ़ा सकते है और अगर आप चाहते है कि मैं इन सभी पॉइंट पर डिटेल्स में जानकारी दूँ तो कमेंट करें।
◆ Live Consciously
◆ Make self acceptance
◆ Take self responsibility
◆ Be Self Assertive
◆ Live Purposefully
◆ Make personal integrity

आप सभी का धन्यवाद। Click here to DM
Powered by Blogger.