Attitude leads our life

किसी प्रॉब्लम को प्रॉब्लम समझना नकारात्मकता की निशानी है कोई भी प्रॉब्लम एक चैलेंज की तरह होती है और आप जानते ही है कि हर चैलेंज में एक अडवेंचर चुपा होता है। चैलेंज आसान भी होते है और कठिन भी। हर बड़े या कठिन चैलेंज के पीछे एक बड़ी अँपोर्चुनिटी छुपी होती है और बडी ओपोर्चुनिटी (मौके) भला कौन छोड़ना चाहेगा। मैं बस कहना ये चाहता हूँ कि हमारी सोच हमे बड़ी से बड़ी चुनौतीयो से चिंता मुक्त कर सकती है। हमारा दिमाग ही हर चीज़ को आसान और कठिन बनाता है किसी काम को करने की हिम्मत देता है। एक सोच आपको mently strong कर सकती है और वही सोच आपको strongly mental भी कर सकती है। बचपन से हम जो भी किसी से सुनते आए है वही पैटर्न हमारे दिमाग मे बने होते है और हम उन्ही के अनुसार काम करते और सोचते है। आप दुनिया की किसी भी कंपनी या कॉरपोरेट ग्रुप में जाए आपको लोवर लेवल के एम्प्लाइज में खूब स्किल मिलेगी लेकिन attitude नही होगा। और जितनी अपर लेवल के एम्प्लॉई को देखोगे उनके अंदर स्किल भले ही कम हो पर attitude जरूर होगा। जरूरी ये है कि हम नेगेटिव attitude से दूर रहे और पॉजिटिव attitude को बिल्ड़ करें। हर दिशा में परिश्रम करने का कोई फायदा नही होता, क्योंकि अनावश्यक संघर्ष तो जानवर भी बहुत करते है लेकिन रहते तो जानवर ही है। हम इंसान है और हमारी दिशा स्ट्रैटिजिक और यूज़फूल होनी चाहिए।
          हर एक अहंकारी व्यक्ति के अंदर एटीट्यूड होता है लेकिन हर एक पॉजिटिव एटीट्यूड वाले व्यक्ति के अंदर अहंकार नही होता है। देखो मैं इसको इस तरह से समझता हूँ। एक पॉजिटिव एटीट्यूड वाला व्यक्ति अपने को किंग समझता है लेकिन एगोइस्टिक दुसरो को अपना गुलाम समझता है। बहुत से लोग दोनो बातो को एक जैसा ही कहेंगे लेकिन दोनों में अंतर है और क्या अंतर है ये मैं नही बता रहा हूँ। क्योंकि शायद अब आप पॉजिटिव एटीट्यूड को समझ चुके है तो इस अंतर को नीचे कमेंट में लिखकर सभी के साथ शेयर करें।



               दोस्तो, हमे लगता है कि हम अपनी जिंदगी अपनी मर्ज़ी से जीते है लेकिन ये एक कड़वा सच है कि हमारा एटीट्यूड हमारी जिंदगी को दिशा देता है। सकारात्मक रहने की कुछ तरीके शेयर कर रहा हूँ जरूर उनका फायदा ले।
1.) ये सोचे कि खुशी एक विकल्प है जिसे आप कभी भी चुनकर खुश रह सकते है।
2.) महसूस करें कि ईश्वर आपके साथ है।
3.) आईने के सामने खुल कर हँसे।
4.) कहे कि आप अपनी सोच के लिए खुद जिम्मेदार है और मैं अपने जीवन मे अच्छा कर के रहूंगा।
5.) और सबसे महत्वपूर्ण ये की, रोज खुशियाँ और अच्छी यादें दोस्तो और परिवार में शेयर करें।

To ask any questions with me directly Click here.

No comments

Powered by Blogger.